शोहदे के कारण रायबरेली की बहनों ने पढ़ाई छोड़ी, कार्रवाई नहीं होने पर पीएम को खून से खत लिखा

रायबरेली- शोहदों के आतंक से दो सगी बहनें इस कदर परेशान हो गई हैं कि उन्होंने पढ़ाई छोड़कर घर बैठना ही ठीक समझा। शिकायत के बाद हालांकि एक शोहदे के खिलाफ रिपोर्ट लिखी गई लेकिन ऊंची पहुंच के चलते अभी तक उसकी गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। 

परेशान बहनों ने पुलिस अधिकारियों समेत सीएम तक को खत लिखा है। लेकिन कहीं पर कोई सुनवाई नहीं हुई। दुखी बहनों ने अब अंतिम आशा के रुप में पीएम नरेंद्र मोदी को खत लिखा है। दोनों ने खून से खत लिखकर शोहदों से उनकी रक्षा करने की अपील की है।

मामला रायबरेली जिले के शहर कोतवाली क्षेत्र का है, जहां की रहने वाली दो सगी बहनें दिव्य पांडेय नाम के शोहदे से परेशान हैं। बड़ी बहन से रेप का आरोपी भी दिव्य पांडेय है। जिस पर बाराबंकी जिले में मुकदमा भी दर्ज है और उस पर चार्जशीट भी दाखिल हो गई है। आरोपी दिव्य पाण्डेय बराबर छात्रा को परेशान कर रहा है। जिसके चलते पीड़िता ने बीटेक की पढ़ाई छोड़ दी और अपने घर रायबरेली आ गई। यहीं नहीं आरोपी ने पीड़िता से जबरन उसका मोबाइल छीन कर उसमें उसके परिजनों की फोटो लेकर अब छोटी बहन को परेशान कर रहा है। लाज शर्म के मारे छोटी बहन भी घर मे कैद हो गई हैं। आरोप है कि पीड़िता की छोटी बहन के नाम से फेसबुक में फेंक आईडी बनाई गई जिसपे अश्लीलता फैलाई गई। इस मामले में भी रायबरेली सदर कोतवली में मुकदमा दर्ज है। पीड़िता व उसके परिजनों का आरोप है कि आरोपी के पिता पहुंच वाले है जिस कारण आरोपी की गिरफ्तारी नही हो रही है।

सुनवाई नहीं होने से बहनों ने अब वह अपने शरीर से खून निकाल प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखा है। लड़कियों का कहना है कि अब उसके पास आत्मदाह के सिवा और कोई रास्ता नहीं बचा है।