कासगंज हिंसा:घायल अकरम ने कहा- '100-150 उपद्रवियों ने मुझपर हमला किया था,मैंने सबको माफ किया'

कासगंज. यूपी के कासगंज हिंसा में अकरम नाम के एक शख्स पर कुछ उपद्रवियों ने हमला कर दिया। इस हमले में अकरम की एक आंख में गंभीर चोट आई है। लेकिन इन सबके बीच अकरम ने उन सभी हमलावरों को माफ कर दिया है। हमले के चार दिन बाद अकरम मीडिया के सामने आए और उन्होंने कहा कि उन्होंने सभी को माफ कर दिया है। बता दें कि गणतंत्र दिवस के दिन कासगंज में तिरंगा यात्रा निकाली जा रही थी। इस दौरान दो पक्षों में झड़प हो गई। इस दौरान चंदन गुप्ता नाम के युवक की मौत हो गई। चंदन की मौत के बाद इलाके में हिंसा भड़क गई। जिसके बाद इलाके में कर्फ्यू लगाया गया था। फिलहाल, इलाके में शांति का माहौल है। 

-मीडिया से बात करते हुए अकरम ने कहा, 'मैं उस दिन कासगंज से होते हुए अलीगढ़ जा रहा था, जहां मेरी पत्नी की डिलीवरी होने वाली थी लेकिन जैसे ही कासगंज पहुंचा तो अचानक 100-150 लोगों ने मुझ पर हमला कर दिया।

-उन्होंने कहा, लेकिन उसी भीड़ में से कुछ लोग मेरे लिए फरिश्ता बनकर आए और उन लोगों ने मुझे हमलावरों से बचाया और जाने दिया। अब मैंने सब को माफ कर दिया है।' 

 

क्या है मामला

-अकरम का कहना है कि वह हिंसा के दिन कासगंज से होते हुए अलीगढ़ जा रहे थे। इसी दौरान उन्होंने कुछ लोगों से रास्ता पूछा। 

-इस दौरान भीड़ ने दाढ़ी देखी और मुसलमान जानकार पत्‍थरों और लाठियों से बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया। इस हमले से उनकी आंख में गंभीर चोटें आई थी।