कहीं खुशी कहीं गमः खुदरा महंगाई दर में कमी तो औद्योगिक उत्पादन दर में भी कमी

नई दिल्लीः कई सप्ताह तक आर्थिक मोर्चे पर आलोचना झेल रही मोदी सरकार के लिए कुछ राहत की खबर है। जनवरी में खुदरा महंगाई दर में कमी दर्ज की गई है। जनवरी में खुदरा महंगाई दर 5.07 फीसदी रही है जबकि दिसंबर में खुदरा महंगाई दर 5.21 फीसदी रही थी।

इस तरह महंगाई दर में थोड़ी गिरावट देखी जा रही है। आज जरूरत की जिंसों, खासकर फल और सब्जियों की कीमत में थोड़ी कमी आई है।

जनवरी में खाने पीने के सामान की खुदरा महंगाई दर में भी कमी दर्ज की गई है। जनवरी में खाने पीने के सामान की खुदरा महंगाई दर 4.7 फीसदी पर आ गई है जबकि दिसंबर में खाने पाने के सामान की खुदरा महंगाई दर 4.96 फीसदी रही थी।

वहीं नवंबर में शानदार आंकड़ों के बाद इंडस्ट्री की रफ्तार फिर धीमी हुई है। दिसंबर महीने के इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन-औद्योगिक उत्पादन (आईआईपी) दर घटकर 7.1 फीसदी रही है। नवंबर में आईआईपी ग्रोथ 8.4 फीसदी रही थी। इस तरह जहां महंगाई के मोर्चे पर अच्छी खबर है वहीं औद्योगिक उत्पादन के आंकड़ें थोड़ा मायूस करने वाले हैं।