बांग्लादेश की सफाई, चीन से दोस्ती को लेकर भारत को चिंता करने की जरूरत नहीं

ढाकाः  चीन के साथ बढ़ रहे संबंधों को लेकर बांग्लादेश ने स्पष्टीकरण दिया है। बांग्लादेश ने कहा कि इससे भारत को चिंतित होने की जरूरत नहीं है। चीन के साथ बांग्लादेश का सहयोग सिर्फ विकास कार्यों को बढ़ावा देने के लिए है, बाकी इसका कोई मतलब नहीं है। यह बात बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने भारतीय पत्रकारों के दल से कही है।

शेख हसीना ने कहा, उनकी सरकार को सिर्फ बांग्लादेश के विकास की चिंता है। इसके लिए वह किसी भी देश के साथ समझौता कर सकती है।

संयुक्त राष्ट्र के मानदंडों के अनुसार बांग्लादेश दुनिया का सबसे कम विकसित देश है। यह मानदंड देश के आर्थिक और जनसंख्या आकार के दृष्टिगत है।

देश इस दशा को सन 2024 तक छोड़ना चाहता है। इसलिए बांग्लादेश किसी भी देश से होने वाले पूंजी निवेश और सहयोग का स्वागत करता है। हम उन्हें विकास में सहयोगी के तौर पर देखते हैं।

बांग्लादेश में भारत, चीन, जापान और पश्चिम एशिया के देश निवेश कर रहे हैं। हम सभी का स्वागत कर रहे हैं। इसमें भारत को चिंतित होने की जरूरत नहीं है।

उल्लेखनीय है कि चीन बांग्लादेश को कम ब्याज दर पर नौ अरब डॉलर (58 हजार करोड़ रुपये) का ऋण देने की योजना बना रहा है जिससे वहां की छह रेल परियोजनाओं का विकास किया जा सके। साथ ही बांग्लादेश के साथ सैन्य संबंध विकसित करने की भी इच्छा जता रहा है।