देश में नोटबंदी जैसे हालात, उत्तर प्रदेश में कई जिलों में बैंक और एटीएम कैशलेस

नई दिल्ली. नोटबंदी के बाद देश के कई राज्यों में एक बार फिर एटीएम और बैंकों में कैश का संकट गहरा गया है। इसका असर उत्तर प्रदेश में भी देखने को मिल रहा है। कई जिलों से में एटीएस में पैसा न होने की शिकायतें मिल रही है। कैश निकालने के लिए लोगों को इधर-उधर भटकना पड़ रहा है। आलम यह की कई बैंकों के सामने लंबी लाइनें लगी हुई है। इस बीच, केंद्र सरकार ने कहा कि कुछ जगह कैश की कमी है। आरबीआई ने काम करना शुरू कर दिया है। दो दिन में यह परेशानी खत्म हो जाएगी।

कानपुर में अधिकतर एटीएम बंद 

-नगदी की समस्या को लेकर औधोगिक नगरी कानपुर के लोग भी खासे परेशान है।

-इन दिनों बैंको में और एटीएम मशीनों में जाकर लोगो को मायूसी ही हाथ लग रही है क्योंकि एटीएम जो है वो अधिकतर बंद है ,वहां कैश तो है ही नही

-वही बैंको में भी नगद भुगतान को लेकर भी लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

-बर्रा 2 इलाके इलाके में जब जांच की गई तो यहां एटीएम बंद मिले। 

इलाहाबाद में शोपिस बने एटीएम

-कैश के संकट का असर इलाहाबाद में भी अधिकतर बैंकों के एटीएम महज शोपीस बने हुए हैं और उनमें पैसे नहीं है।

-इलाहाबाद के कई पाश इलाके में एटीएम की पड़ताल की तो ज़्यादातर के या तो शटर गिरे मिले या फिर उनमे कैश नहीं था।

-इससे लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

-खास बात यह है कि प्राइवेट बैंकों के मुकाबले नेशनलाइज बैंकों के एटीएम की हालत ज्यादा खराब है।

वाराणसी में पर्यटकों को हुई परेशानी

-काशी में करीब एक लाख पर्यटक रोज आते है। ऐसे में सबसे ज्यादे परेशानी उनको उठानी पड़ रही है।

-लंका, गोदौलिया,चौक,कचहरी जैसे इलाकों में कई बैंको के एटीएम ने कैश नहीं है।

-दशाश्मेध घाट घूमने आए पर्यटक कैश न मिलने से काफी परेशान है। वहीं आम लोगों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ गया है। 

 

देश में कहां हैं कैश की किल्लत

-उत्तर प्रदेश

-गुजरात

-बिहार

-तेलंगाना

-झारखंड

-महाराष्ट्र

-मध्य प्रदेश

-दिल्ली एनसीआर