'बांझ क्या जाने प्रसव पीड़ा', लालू को जबरन एम्स से छूट्टी देने पर तेजस्वी के सवाल पर जदयू का पलटवार

नई दिल्लीः बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को दिल्ली के एम्स से छुट्टी दे दी गई है। चारा घोटाले में जेल की सजा काट रहे लालू यादव दिल्ली से रांची के लिए रवाना हो गए हैं। 

इससे पहले लालू प्रसाद यादव ने एम्स के निदेशक को पत्र लिखकर कहा कि उन्हें अभी डिस्चार्ज नहीं किया जाए। वह पूरी तरह स्वस्थ नहीं हुए हैं। हालांकि उनकी इस अपील को नहीं माना गया और एम्स ने लालू को छुट्टी दे दी। उन्हें शाम चार बजे की ट्रेन से रांची रवाना कर दिया गया। 

बता दें कि चारा घोटाला में सजा काट रहे आरजेडी प्रमुख लालू यादव की तबीयत बिगड़ने के बाद रांची के रिम्स अस्पताल में इलाज चल रहा था, जिसके बाद बेहतर इलाज के लिए उनको एक महाने पहले दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था।

उधर, लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा कि जब उनके पिता ने एम्स को खत लिखकर कहा है कि वो रांची अस्पताल वापस नहीं जाना चाहते हैं, तो उनको क्यों रांची भेजा जा रहा है? उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर लालू यादव को वापस रांची अस्पताल भेजने के लिए एम्स प्रशासन पर कौन दबाव डाल रहा है।

उधर, जनता दल यू के प्रवक्ता नीरज ने लालू यादव के  डिस्चार्ज होने को लेकर हो रही राजनीति पर कहा कि राजकोष के खजाने की लूट के आरोपी सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव न्यायपालिका के आदेश से देश के सबसे प्रतिष्ठित मेडिकल संस्थान एम्स में इलाज करा रहे थे। डॉक्टरों ने यह सत्यापित किया होगा कि इनको अब इलाज की जरूरत नहीं है। 

उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल पर तंज कसते हुए कहा कि आप चरवाहा विद्यालय के जनक हैं। बांझ क्या जाने प्रसव की पीड़ा। नीरज ने कहा कि जैसी करनी, वैसी भरनी। लालू ने जो किया है, उसको भोग रहे हैं। 

उधर, एम्स अस्पताल का कहना है कि उनकी तबीयत सही है।