कुंभ 2019 के मुख्य स्नानों की डेट जारी होने पर साधु-संतों ने जताई नाराजगी, सीएम से शिकायत की ठानी

इलाहाबाद. प्रयागराज मेला प्राधिकरण द्वारा कुंभ 2019 के शाही स्नान पर्व की तारीखें जारी करने पर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने नाराजगी जतायी है । अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने कमिश्नर पर परंपरा तोड़ने का आरोप लगाते हुये उनकी शिकायत मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ से करने की बात कही है । उनका आरोप है कि प्रयागराज मेला प्राधिकरण की बैठक में अफसरों ने मनमानी करते हुये कुंभ के मुख्य स्नान पर्वों की डेट जारी कर दी है । जिला प्रशासन के अफसरों की इस मनमानी के खिलाफ अखाड़ों के साधु संतों में नाराजगी हैं । साधु संत परंपरा तोड़कर मनमानी करने वाले अफसरों की शिकायत सूबे के सीएम के साथ ही बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष से भी करेंगे । प्रयागराज मेला प्राधिकरण के अफसरों ने सोमवार की शाम संगम तट पर बैठक की थी । जिसमें अफसरों ने कुंभ 2019 के कार्यों की चर्चा करने के साथ ही मुख्य स्नान पर्वों की तिथियां भी जारी कर दी । जिसकी जानकारी होने के बाद अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष ने शाही स्नान पर्व की तिथियां अखाड़ों की गैरमौजूदगी में जारी करने पर आपत्ति जतायी है । कुंभ के दौरान तीन मुख्य स्नान पर्वों पर ही सभी तेरह अखाड़े शाही स्नान करते हैं । यही वजह है कि शाही स्नान की तारीखें अखाड़ा परिषद की मौजूदगी में घोषित करने की परंपरा सदियों से चली आ रही है ।लेकिन कल शाम संगम किनारे प्रयागराज मेला प्राधिकरण की बैठक कमिश्नर डा.आशीष गोयल की अध्यक्षता में हुयी । इस बैठक में कुंभ की तैयारियों की चर्चा के बीच अफसरों ने कुंभ के स्नान पर्व की डेट भी जारी कर दी । जिसकी जानकारी होने पर अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने नाराजगी जताते हुये कमिश्नर पर परंपरा तोड़ने और मनमानी करने का आरोप लगाया । साथ ही महंत नरेन्द्र गिरी ने कमिश्नर पर अखाड़े के संतों की उपेक्षा करने का भी आरोप लगाया है । अखाड़ा परिषद संतों को दरकिनार कर कुंभ मेले की मुख्य स्नान पर्वो की तारीखें जारी करने पर नाराजगी जताते हुये इसकी सीएम के साथ ही बीजेपी के अध्यक्ष से करने की बात कही है ।