यूपी पुलिस का गजब कारनामा,मुर्दे पर दर्ज की FIR, बनाया चोरी और जमीन कब्जाने का आरोपी

बरेली. प्रदेश सरकार भले ही पुलिस की कार्यशैली सुधारने के लाख दावे करे, लेकिन खाकी वर्दी पर प्रदेश सरकार की सख्ती का कोई असर नहीं है। बरेली में जानलेवा हमले के एक मामले में पुलिस ने आरोपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के बजाय पीड़ित पर जुल्म ढा रही है। हैरानी की बात यह है कि पुलिस ने पीड़ित के मृतक पिता के खिलाफ भी चोरी और जमीन कब्जाने के फर्जी मुकदमे दर्ज कर लिया है। वहीं पीड़ित परिवार पर जो आरोप लगाए गए हैं, वह आरटीआई में झूठे साबित हुए है। अब पीड़ित परिवार न्याय के लिए दर-दर भटक रहा है।

-दरअसल, बरेली के थाना बारादरी इलाके में सैलानी के रहने वाले अनीस कुरैशी के ऊपर करीब आठ महीने पहले पड़ोस के रहने वाले इमरान ने तीन गोलियां मारीं थीं।

-गनीमत रही कि अनीस छत से कूद गए और उनकी जान बच गयी।

-पिछले साल 3 सितंबर 2017 को इस घटना के बाद मौके पर थाना बारादरी, क्यूआरटी और स्थानीय चौकी की पुलिस मौके पर पहुंची।

-पुलिस ने फायरिंग की बात मानी, लेकिन एफआईआर दर्ज नहीं की।

-पीड़ित अनीस ने एसएसपी, डीआईजी और आईजी से एफआईआर दर्ज नहीं होने की शिकायत की तो थाना बारादरी पुलिस ने आरोपी इमरान के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के बजाय पीड़ित अनीस कुरैशी और उनके पिता शब्बीर कुरैशी के खिलाफ बलवा, मारपीट, चोरी और प्लॉट कब्जाने की एफआईआर दर्ज कर दी।

-आरटीआई में खुलासा हुआ कि अनीस का नाम और वल्दियत सही है, लेकिन पता गलत है।

 

 1998 में हो चुकी है पीड़ित के पिता की मौत 

 

-चौंकाने वाली बात यह है कि अनीस के पिता की सन 1998 में मौत हो चुकी है। लेकिन पुलिस ने एक मुर्दा को भी फर्जी चोरी के मामले में आरोपी बना दिया।

-पुलिस के इस जालिमाना रवैये की वजह से यह परिवार घर में कैद होकर रह गया है।

 

दरोगा ने भी मानी थी गोली चलने की बात 

-3 सितंबर 2017 को फायरिंग की वारदात होने के बाद मौके पर पहुंचे दरोगा परवेज हसन खां ने भी कबूल किया है कि मोहल्ले के हिस्ट्रीशीटर इमरान ने तीन गोलियां चलायीं थीं।

-इस कुबूलनामे को मजलूम अनीस ने अपने मोबाइल में कैद कर लिया।

-पुलिस का संरक्षण मिलने के बाद आरोपी इमरान के हौसले बुलंद हो गए। वह आए दिन अनीस क़ुरैशी के घर में पथराव करने लगा।

-अनीस ने अपनी सुरक्षा के लिए घर में सीसीटीवी कैमरे लगवा लिये। अब पुलिस सीसीटीवी कैमरे उतारने का दबाव बना रही है।

-आरोप है कि घर की महिलाओं के साथ भी बदतमीजी करती है।

-इस मामले में पीड़ित परिवार अपने वकील के माध्यम से पुलिस के तमाम आला अधिकारियों से मिल चुका है, लेकिन कार्यवाही के नाम पर अब तक सिर्फ आश्वासन मिला है।