राज बब्बर की बुलाई बैठक में नहीं पहुंचे पीसीसी सदस्य, लुईस खुर्शीद भी नहीं पहुंचीं

फर्रुखाबादः प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर के निर्देश पर ब्लाक कांग्रेस सम्मेलन तय करने आये प्रदेश प्रभारी प्रकाश प्रधान का पारा उस समय चढ़ गया जब उन्हें एक को छोड़कर सभी पीसीसी सदस्य नदारद मिले। हाई प्रोफाइल पीसीसी सदस्य कभी कांग्रेस के कार्यक्रम में शरीक नहीं होते इसके बावजूद सिफारिश पर उन्हें एक ओहदा दे दिया गया था। 

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर द्वारा पीसीसी सदस्यों को ब्लाक सम्मेलनों का प्रभारी बनाए जाने के बावजूद कोई नेता प्रभारी की बैठक में नहीं आया।

धरातल पर लौटने को बेताब कांग्रेस अभी आसमान में उड़ना बंद नही कर रही है। अभी दो महीने पहले जिले के सातों ब्लाकों में पीसीसी सदस्य चुने गए थे। पूर्व मंत्री की सिफारिश पर सभी है प्रोफाइल नेताओं को पीसीसी सदस्य बना दिया गया था। इनमें श्रीमती शकुंतला, प्रदीप राठौर, परवेज खान, कौशलेन्द्र सिंह यादव, शेर अफगन और पूर्व विधायक लुईस खुर्शीद के नाम शामिल थे।

चुनावी मोड़ में आ चुकी कांग्रेस ने ब्लाक स्तर पर कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित करना तय किया है। इसके लिए सभी पीसीसी सदस्यों को  सम्मेलनों का प्रभारी बना दिया गया है। पर सभी है प्रोफाइल नेताओं के पीसीसी सदस्य होने के कारण वे कभी भी पार्टी के स्थानीय कार्यक्रमों में शामिल नहीं होते हैं।

सम्मेलनों के लिए प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर द्वारा प्रभारी बनाकर भेजे गए प्रकाश प्रधान के सामने कौशलेन्द्र सिंह यादव को छोड़कर कोई भी पीसीसी सदस्य नजर नहीं आया। पूर्व सूचना के बावजूद पीसीसी सदस्यों के अनुपस्थित होने पर प्रदेश प्रभारी भड़क गए। उन्होंने अपने भाषण में ही इस पर कड़ी फटकार लगायी।

गुस्से में आये प्रभारी बोले कि जब पीसीसी सदस्य ही नदारद हैं तो वे सम्मेलनों के बारे में दिशा- निर्देश किसे दें। वह यह स्थिति बर्दाश्त नहीं करेंगे और पूरी रिपोर्ट प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर को देंगे। बाद में उन्होंने बताया कि  वह एक बार सभी से बात करने का प्रयास करेंगे। अगर वे अपनी असमर्थता व्यक्त करते हैं तो दूसरे नेताओं को प्रभारी बनाया जाएगा।