भगवान बचाएं इन आवारा जानवरों से, बुजुर्ग को उठाकर पटक दिया, 75 की उम्र में टूटीं पसलियां

फर्रुखाबादःशहर में आवारा जानवरों का आतंक कम होने का नाम नहीं ले रहा है। विधान सभा और नगर पालिका चुनाव के घोषणा पत्र में आवारा जानवरों का इंतजाम करने के वादा किया गया था।

पर चुनाव के बाद किसी को यह वादा याद नहीं रहा। नतीजा यह है कि आवारा जानवरों का आतंक अभी भी जारी है। इसी के चलते फतेहगढ़ में एक सांड ने एक बुजुर्ग को उठाकर पटक दिया। जिससे उनके हाथ, पैर  और पसलियों में कई फ्रैक्चर हो गए है। उनकी हालत गंभीर बनी हुई है।

शहर के सभी मोहल्लों और गलियों और सड़कों पर आवारा जानवरों का आतंक है। सांड, गाय, कुत्तों की वजह से लोगों का घर से निकलना दूभर हो गया है।  यह समस्या इतनी गंभीर हो गई है कि हर चुनाव में यह समस्या मुद्दा बनती है पर कितने ही चुनाव निकल गए पर यह समस्या खत्म नहीं हो पाई।

ताजा घटना फतेहगढ़ के तलैया लेन मोहल्ले की है। घर से निकले 75 वर्षीय प्रमोद कुदेशिया को सांड ने सींगों से उठाकर कई बार पटका। प्रमोद कुदेशिया ने बताया कि उनके हाथ पैर में कई जगह टांके आये हैं। पसलियों में भी फैक्चर है।

स्थानीय नागरिक वीरेंद्र ने बताया कि दिन से रात तक सभी गलियों व सड़कों पर आवारा जानवरों का आतंक रहता है। बच्चों, महिलाओं और बुजुर्गों का निकलना मुश्किल हो गया है। कोई सांड कब हमला कर दे, कहा नहीं जा सकता। 

नगर विधयक मेजर सुनील दत्त द्विवेदी ने बताया कि यह सही है कि आवारा जानवरों की समस्या के लिए कुछ नहीं हो पाया है। नगर पालिका ने आवारा जानवरों को रखने के लिए आश्रयस्थल का निर्माण किया है लेकिन वह हमेशा खाली रहता है।