छुट्टियों के बाद पहले दिन स्कूल पहुंचे बच्चे तो ऐसे करनी पड़ी सफाई, क्लास में सोते मिले कुत्ते

रायबरेली. शिक्षा व्यवस्था को दुरुस्त बनाने के लिए सराकर करोडों रुपए खर्च कर रही है, यही नही एक जुलाई से शिक्षण सत्र की शुरुआत भी हो गई है और पहले ही दिन विद्यालयों में पढ़ने वाले छात्रों से पढ़ाई की बजाए उनसे सफाई का कार्य करवाना शुरू कर दिया गया है। हम बात रायबरेली जिले की कर रहे है। 

जहां अमावां ब्लाक के कई प्राथमिक व पूर्व प्राथमिक विद्यालयों में छात्रों से पढ़ाई के बजाय सफाई करवाई जा रही है। यही नहीं बच्चो के बीच में कुत्ते भी बैठे मिले जो कैमरे में कैद हो गए।

 

 

-आप भी देखिए किस तरह पीठ में बैग लिए ये बच्चे मेज कुर्सियां साफ कर रहे है तो कोई पानी से धुलाई कर रहा है।

 

-अब दूसरी तस्वीर देखिए कुर्सी में टीचर और जमीन में छात्रों के बीच मे कुत्ते बैठे हुए है।

 

 

-इन तस्वीरों को देख कर आप भी समझ सकते है क्या यह देश के भविष्य है।

-यही नहीं इनकी हालत को देख कर तो यही कहा जा सकता है कि ये पढ़ने नही बल्कि इनके साफ-सफाई करवाने के लिए बुलवाया जाता है। वहीं स्कूल में तैनात प्रिंसिपल से बात की गई तो उनका कहना है कि ये जो भी हो रहा है वह वाकई गलत है।

-बता दें कि बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बाकायदा पत्र जारी कर निर्देश दिया था कि बच्चों से कोई भी काम नहीं करवाया जाएगा।